स्मार्टफोन से कंट्रोल होगा इंसानी दिमाग, एलन मस्क ने पेश की फ्लेक्सिबल चिप



कैलिफोर्निया (अमेरिका). टेस्ला के चीफ एग्जिक्यूटिव और स्पेस-एक्स के संस्थापक एलन मस्क का स्टार्टअप न्यूरोलिंक इंसान के दिमाग को पढ़ने और उसे बीमारी के वक्त नियंत्रित करने पर काम कर रहा है।मस्क ने गुरुवार को इससे जुड़ी एक फ्लेक्सिबल चिप को पेश किया। इसे इंसानों के दिमाग में इम्प्लांट किया जाएगा।

  1. एलन का कहना है कि इस डिवाइस का इस्तेमाल याददाश्त बढ़ाने, ब्रेन स्ट्रोक या अन्य न्यूरोलॉजिकल रोगों से ग्रस्त मरीजों में किया जाएगा। इसके अलावा, लकवाग्रस्त मरीजों के लिए फायदेमंद साबित होगी। हम मरीज के दिमाग को पढ़ सकेंगे और डेटा एकत्रित कर सकेंगे। न्यूरोलिंक ने बताया कि अभी तक इसका परीक्षण बंदरों और चूहों पर किया जा चुका है, जो कामयाब रहा है।

    • यह चिप बहुत पतली है। यह 1000 तार से जुड़ी है। ये तार चौड़ाई में इंसानों के बाल के दसवां हिस्से हैं। न्यूरोलिंक का कहना है कि इसे बनाने में हमे दो साल से ज्यादा का वक्त लगा।
    • डिवाइस को रोबोट द्वारा दिमाग में इंस्टाल किया जाएगा। सर्जन इस रोबोट की मदद से व्यक्ति की खोपड़ी में 2 मिलीमीटर छेद करेंगे। फिर चिप को छेद के जरिए दिमाग में लगाया जाएगा।
    • न्यूरोलिंक ने बताया कि सभी पैरामीटर खरा उतरने के बाद 2020 की शुरुआत में इसे मानव ट्रायल के लिए एफडीए से मंजूरी लेने की योजना है।
  2. न्यूरालिंक टेक्नॉलजी इंसान के मस्तिष्क में चिप और वायर के जरिए काम करेगी। ये चिप रिमूवेबल पॉड से लिंक्ड होंगे, जिन्हें कानों के पीछे फिट किया जाएगा और बिना तार के दूसरे डिवाइस से कनेक्ट किया जाएगा। इसके जरिए मस्तिष्क के अंदर की जानकारी सीधे स्मार्टफोन या फिर कम्प्यूटर में फीड होगी। अमेरिकन मीडिया के मुताबिक, एलन मस्क ने न्यूरोलिंक में 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया है। इसका मुख्यालय सैन फ्रांसिस्को में है।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Elon Musk is making implants to link the brain with a smartphone

      from Dainik Bhaskar
      https://ift.tt/2JCPFrW

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar