ट्रेन से गिर आंतें बाहर, 9 किलोमीटर चला पैदल

वारंगल
के वारंगल जिले में एक शख्स चलती ट्रेन से गिर गया। इस घटना में उसकी आंतें बाहर आ गईं। हैरानी वाली बात यह है कि गंभीर रूप से घायल हो चुके शख्स ने हिम्मत न हारते हुए घाव को शर्ट से कस लिया और अस्पताल पहुंचने से पहले नौ किलोमीटर की दूरी तय की। जब घायल शख्स की लोगों ने हालत देखी तो उनके होश फाख्ता हो गए। आनन-फानन में उसे इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया।

रेलवे पुलिस का कहना है कि तीन दिनों पहले सुनील चौहान (24) अपने भाई प्रवीण और अन्य प्रवासी मजदूरों के साथ उत्तर प्रदेश के बलिया जिले से संघमित्रा एक्सप्रेस में आंध्र प्रदेश के नेल्लोर के लिए सवार हुआ था। तड़के सुबह तकरीबन 2 बजे जब ट्रेन ने तेलंगाना के हसनपर्थी के नजदीक को पार किया तभी सुनील पेशाब करने अपनी बर्थ से बाहर निकला।

गंभीर रूप से चोटिल हो गए सुनील
जीआरपी इन्स्पेक्टर के स्वामी ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘टॉइलट से निकलते वक्त सुनील वॉश बेसिन के नजदीक रुक गया लेकिन दरवाजा खुला होने की वजह से वह ट्रेन के बाहर गिर गया। इस घटना में वह गंभीर रूप से चोटिल हो गया। सुनील को गिरते हुए किसी ने नहीं देखा। गिरने की वजह से सुनील के पेट में गंभीर चोट आई और उसकी आंतें बाहर आ गईं।’

घायल सुनील की हुई इमर्जेंसी सर्जरी
असहनीय दर्द से जूझ रहे सुनील ने कुछ देर बाद अपनी अंतड़ियों को वापस पेट के अंदर की ओर दबाया और घाव पर शर्ट को जोर से बांध लिया। इसके बाद वह अंधेरे में ट्रैक पर चलने लगा। स्वामी कहते हैं, ‘अपने घाव को हाथ से दबाकर सुनील हसनपर्थी स्टेशन पहुंचे, जो कि उनके गिरने वाली जगह से नौ किलोमीटर की दूरी पर है।’

किस्मत से हसनपर्थी स्टेशन मास्टर नवीन पंड्या ने सुनील को पटरियों से आते हुए देख लिया। इसके बाद सुनील को वारंगल स्थित महात्मा गांधी हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां पर उनकी इमर्जेंसी सर्जरी की गई। डॉक्टरों का कहना है कि सुनील की हालत गंभीर है लेकिन स्थिर है।

from India News: इंडिया न्यूज़, India News in Hindi, भारत समाचार, Bharat Samachar, Bharat News in Hindi https://ift.tt/2JNed1e

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar