आर्मी के ऑफिसर्स पोस्टिंग में बड़ा बदलाव

नई दिल्ली
भारतीय में ‘वीआईपी’ कल्चर को खत्म करने की पहल हुई है। जिन ब्रांच में अब तक पोस्टिंग कुछ टॉप के ऑफिसर्स की ही होती थी उनमें अब ऐसे ऑफिसर्स की भी नियुक्ति की गई है जो काबिल तो हैं लेकिन जिन्हें सेना में हाई लेवल पर ज्यादा वेकेंसी न होने की वजह से रैंक नहीं मिल पाता। साथ ही इस प्रैक्टिस पर भी लगाम लगाई जा रही है कि जिसमें कुछ ऑफिसर्स तो लगातार क्लास-ए सिटी में ही पोस्टिंग पा लेते हैं और कुछ ऑफिसर्स को कभी क्लास-ए सिटी में पोस्टिंग नहीं मिल पाती।

हाई प्रोफाइल ब्रांच में पोस्टिंग
सेना में मिलिट्री ऑपरेशंस (एमओ), मिलिट्री इंटेलिजेंस (एमआई) और मिलिट्री सेक्रटरी (एमएस) ब्रांच को हाई प्रोफाइल माना जाता है। सेना के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि अब तक इन ब्रांच में टॉप के ऑफिसर्स की ही नियुक्ति होती रही है। लेकिन अब इस ढर्रे को तोड़ा गया है। पहली बार 6 ऐसे आर्मी ऑफिसर्स को इन ब्रांच में नियुक्ति दी है जो नॉन इंपेनल्ड ऑफिसर्स हैं। नॉन इंपेनल्ड का मतलब वे ऑफिसर्स हैं जिन्हें कर्नल के सिलेक्ट रैंक में प्रमोट नहीं किया जाता क्योंकि सेना के पिरामिड स्ट्रक्चर (नीचे ज्यादा और ऊपर कम जगह) की वजह से वेकेंसी बेहद कम होती हैं। आर्मी में करीब 48 हजार ऑफिसर्स हैं जिनमें से नॉन इंपेनल्ड ऑफिसर्स की संख्या 5 से 7 हजार के बीच है। सेना के अधिकारी के मुताबिक इस कदम से ऑफिसर्स का मोटिवेशन बढ़ेगा।

बनी है 4 हजार ऑफिसर्स की लिस्ट
सेना के एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक ऐसे करीब 4 हजार ऑफिसर्स की लिस्ट बनाई गई है जिन्हें अभी तक (पीस पोस्टिंग में) क्लास-ए सिटी की पोस्टिंग मिली ही नहीं है। सेना ने पीस पोस्टिंग में तीन कटैगरी बनाई हैं। यह उस जगह के इंफ्रास्ट्र्क्चर और सुविधा के हिसाब से है। क्लास- ए, बी और सी। उन्होंने बताया कि इस लिस्ट में से करीब 300 ऑफिसर्स को क्लास-ए सिटी में पोस्टिंग दे दी गई है और बाकी क्लास-ए पोस्टिंग में इन ऑफिसर्स को ही प्राथमिकता दी जाएगी जिन्हें पहले क्लास-ए सिटी नहीं मिली है।

from India News: इंडिया न्यूज़, India News in Hindi, भारत समाचार, Bharat Samachar, Bharat News in Hindi https://ift.tt/2Z0KjQz

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar